Skip to main content

Posts

Showing posts from December, 2019

sad shayari in hindi for love | वैरी सैड शायरी | हिन्दी सैड शायरी

sad shayari in hindi for love, very sad shayari, hindi shayari, वैरी सैड शायरी, बहुत सैड शायरी, हिन्दी सैड शायरी, देखिए आपकी मनपसंद शायरियां हिंदी में बारिशें तेरे बिन भी होती हैं मेरे शहर में..
मगर उनमें सिर्फ पानी बरसता है इश्क नहीं… sad shayari in hindi for love | वैरी सैड शायरी | हिन्दी सैड शायरी “मैं कहाँ से “लाऊँ”कोई बताओ कहाँ “बिकता” है वो ….!!
वो “नसीब”जो तुझे “उम्र”भर के लिए “मेरा” कर दे!! Sad Shayari For Lover In Hindi ! सैड शायरी ! हम अजनबी थे जब, तुम बातें खूब किया करते थे
अब दिल दे बैठे हैं तो तुम हमको याद भी नहीं करते। मोड़ कर उँगलियाँ मिला कर अंगूठा दिल तो बना लोगे……!!
मगर धड़कने के लिए जो चाहिए वो मोहब्बत कहां से लाओगे…..? acchi acchi shayariyan अच्छी शायरी हिंदी में ये जिदंगी,*
तमन्नाओं का गुलदस्ता ही तो हैं,
कुछ महकती हैं, कुछ मुरझाती हैं और
कुछ
“चुभ जाती हैं”……!! इस शहर की वीरां गुलशनें, हैं फूल कम, कांटे कई,
दामन मेरा छलनी हुआ, हम दर्दो-गम किससे कहें!! mohabbat shayari बेइंतहा मोहब्बत शायरी, उर्दू शायरी मोहब्बत एक दिन भी ना निभा सकेंगे मेरा किरदार,
वो लोग जो मुझे मशवरे देते हज…

Pacl refund online : जनवरी 2020 में मिल सकते हैं pacl मे फंसे हुए लोगों के रुपए

Pacl refund मामले में जनवरी 2020 मैं लोगों के पैसे वापस मिलने शुरू हो सकते हैं। यह खबर लोगों के लिए बहुत ही खुशी की खबर है। pacl refund online kya hai नागरिकों की आर्थिक सुरक्षा के लिए बनी भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (Sebi) ने पीएसीएल समूह की संपत्तियों के लिए उन इच्छुक इकाइयों से प्रस्ताव आमंत्रित किए हैं।
जो अधिक मूल्य की पेशकश कर सकती हैं। नियामक ने कंपनी की योजना से अलग इन संपत्तियों से बोलियां मांगी हैं।

सेबी ने बयान में कहा है कि पीएसीएल द्वारा दिए गए प्रस्ताव पर इच्छुक इकाइयों से 21 जून तक आर एम लोढ़ा समिति के समक्ष जवाबी प्रस्ताव देने को कहा गया है।
सेबी कुल 60,000 करोड़ रुपए की वसूली के लिए यह कदम उठा रहा है।
सूत्रों से पता चला है कि पीएसीएल रिफंड मामले में जनवरी 2020 मैं लोगों के पैसे वापस मिलने शुरू हो सकते हैं।  यह खबर लोगों के लिए बहुत ही खुशी की खबर है। इससे पहले सेबी ने बस ग्रुप की 18 गाड़ियों को नीलाम किया था जिससे करोड़ों रुपए मिले। पीएसीएल को पर्ल समूह के रूप में भी जाना जाता है।  समूह ने जनता से कृषि और रियल एस्टेट कारोबार के नाम पर धन जुटाया था।  कंपनी ने यह…